God is not only in Temples, Mosques, Churches etc.

God is not only in Temples, Mosques, Churches etc. but everywhere, in everyone and from eternity to eternity. Sages and mystics all over the planet have again and again taught people of their time about their uniqueness of being born as a human being on this planet. Based on their teachings I may conclude that … Continue reading God is not only in Temples, Mosques, Churches etc.

Yes. We exist and don’t exist simultaneously!

Kabir in his one of the couplet said: समूँद नहीं सीप बिन, स्वाति बूँद भी नाहीं। कबीर मोती नीपजे, सून्य सिसिर गह गाँठी॥Means: The Ocean, the sky and droplets from sky exists because the bivalve sea shell has to form Pearl out of it. Because God always is in favour of transformation be it of … Continue reading Yes. We exist and don’t exist simultaneously!

ताओ, साक्षी और ओशो

ताओ को समझने के लिए पहले यह जानना ज़रूरी है कि आख़िर यह है क्या? इसको pathless path कहा तो यह ऐसा है जैसे माला के मोतियों के बीच से निकलने वाले धागे का रास्ता. यह सब मोतियों को एक नियम के अनुसार बांधे रखता है। जो धागा पिरोया जाएगा उसके लिए रास्ता लेकिन यह … Continue reading ताओ, साक्षी और ओशो

ताओ है झुकने कि कला, अंतिम होने की कला और ख़ाली होने की कला

ताओ को समझने से पूर्व यह ज़रूरी है कि इसे समझा जाए: कर्मयोगियों के लिए ओशो ने कहा कि “तुम ध्यानपूर्वक कर्म करने लगो। जो भी करो, मूर्च्छा में मत करो, होशपूर्वक करो। करते समय जागे रहो”ज्ञानयोगीयों को ओशो ने कहा “ तुम विचार में ही मिलाकर ध्यान को पी जाओ। विचार को रोको मत; … Continue reading ताओ है झुकने कि कला, अंतिम होने की कला और ख़ाली होने की कला

साक्षी की साधना

शरीर, मन और आत्मा ->आत्मज्ञान अष्टावक्र महागीता भाग १, #४, पहले प्रश्न का उत्तर  (from "अष्टावक्र महागीता, भाग एक - Ashtavakra Mahageeta, Vol. 1  : युग बीते पर सत्य न बीता,  सब हारा पर सत्य न हारा (Hindi Edition)" by Osho .) Start reading it for free: https://amzn.in/7lDQLig -------------- Read on the go for free - … Continue reading साक्षी की साधना