Innovative Structure V/s Being Human

इनोवेटिव स्ट्रक्चर इस वेबसाइट के लिए कुछ जँचता नहीं है | लेकिन जैसे भूकंप आता है, और मनुष्य जान बचा कर भाग सके उसके लिए भूकंपरोधी मकानों का निर्माण किया जाता है | एसा कोई मकान नहीं बन सकता जिसको कि भूकंप से कोई नुकसान ना हो सके | लेकिन यदि उस भवन के सारे रहवासी अपनी जान बचाकर बाहर आ सकें एसी सुविधा उन्हें मिल सके और इतने समय तक वह टिका रहे तो वह भवन भूकंपरोधी कहलाता है |

जोशुतो, उस अनोखे  रास्ते, अपथ का पथ या बिना रास्ते का रास्ता, का नाम है जो एक शरीर (स्ट्रक्चर) ने एक इंसान के रूप में जन्म लेने के बाद तय किया. उसमें एक शरीर के  सारे कर्मों और उनसे मिली सीखों को जीवन में उतारने और जीवन के अंत तक लगातार सीखने, पुराना हो चुका उसे भूलने और फिर से नया सीखने के फलस्वरूप जो एक शरीर ने पाया वह यह की जीवन एक रास्ता है जो समष्टि सर्वथा सनातन और एक सी बनी रहकर भी व्यष्टि के माध्यम से अलग-अलग रूपों में तय करती है | जन्म से नाम शरीर को दिया गया है लेकिन समष्टि शरीर के पहले भी थी और बाद में भी रहेगी | एक अनोखे (इनोवेटिव) रास्ते से समष्टि (existence) व्यष्टि (body) के माध्यम से गुज़री जिसका नाम जोशुतो – द व्हाइट क्लाउड है और वह द ओशनिक वेव के रूप में इस धरा से जुड़ा हुआ है |

मनुष्य जीवन के अंतिम समय में भी कुछ इसी प्रकार का भूकंप का सामना उसके शरीर को करना पड़ता है | और वह शरीर को छोड़कर आसानी से अनंत के साथ एक हो सके इतना वह कर सके तो उसका शरीर भी इनोवेटिव स्ट्रक्चर होगा | और हर मनुष्य की अपने प्रति यह अर्जेंट रेस्पॉन्सिबिलिटी है कि उसका शरीर भी इनोवेटिव स्ट्रक्चर हो|

Main blog is in Hindi. For English language persons i am writing in English also, so that they can get benefited. It is as per my knowledge of English, and may contain some error.

Innovative structures, this name does not suit this website. An earthquake resistant structure is called when an Earthquake strikes it and it is designed in such a manner and with such facilities that every person living in it can come out of it, without any harm. The structure may become useless after it. No such construction of a structure is possible that remain unaffected by the severest earthquake.
Joshto is the name of the ‘Innovative’ path or Pathless path, in Zen, that a body travelled after taking birth as a human being. This journey includes all the actions and lessons learned from them and undergone metamorphism to become one with the existence and still unlearning and relearning to understand to its capacity the unknowable and unexplainable. At the time of birth, a name to this human body is given, that cannot be unique, but the path that it travels to see the existence as it is and not as it looks, is always unique.
Last moments of life of a human being is also like an earthquake strikes on its body.  And as a human being it is our prime responsibility to involve in knowing art of leaving body with a smile on our face, so that one can reunite with the existence without harm, the body may collapse afterwards.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s